“Theatre of Relevance – Artistic Exploration-कलात्मक अन्वेषण ” Laboratory

“ थिएटर ऑफ़ रेलेवंस































कलात्मक अन्वेषण कार्यशाला ”
विश्वविख्यात रंग चिन्तक और “ थिएटर ऑफ़ रेलेवंस ” नाट्य सिद्धांत के जनक मंजुल भारद्वाज ने “19-23 अक्तूबर,2016  तक पांच दिवसीय आवासीय “कलात्मक अन्वेषण कार्यशाला ” को शांतिवन पनवेल में उत्प्रेरित किया . “ थिएटर ऑफ़ रेलेवंस ” नाट्य सिद्धांत की स्वयं और समूह के आत्म अनुभव आधारित कलात्मक प्रक्रिया में सहभागी कलाकारों ने  अपने आपको प्रकृति के सानिद्ध्य में खंगोला और अपने अन्दर कलात्मक व्यक्तित्व को खोजते हुए अपनी कलात्मक प्रतिभा को निखारा .”गाढ़ी” नदी के मध्य भाग में स्थित शिलाओं पर नाटक “रंगकर्मी” का मंचन कर एक नया कलात्मक इतिहास लिखा !

“Theatre of Relevance – Artistic Exploration” Laboratory


“Theatre of Relevance – Artistic Exploration” Laboratory was facilitated by Theatre Thinker Manjul Bhardwaj from 19-23 October, 2016 at Shantivan, Panvel. In this 5 days “Artistic Exploration” residency the participants  explored themselves in the serenity of nature as artists through water , air ,soil, space and urging fire of constructive change and artistic  exploration of self, as performers, writers, directors, choreographers, musicians, live  sculpturing and facilitators to enhance positivism & peace in life ! All performers created a history by performing  the play “Rangkarmi” in the middle of river “Gadhi” in which the rising sun has operated the light .. Amazing experience of creativity in Nature!

Comments

Popular posts from this blog

“तत्व,व्यवहार,प्रमाण और सत्व” की चतुर्भुज को जो साधता है वो है...क्रिएटर” – मंजुल भारद्वाज (रंग चिन्तक )

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 5.. आज का नाटक है “मैं औरत हूँ!”