Friday, April 18, 2014

कदम जो चले थे
विलुप्त हो गए
छोड़ गए पदचिह्न
सदियों तक
पीढ़ियों के लिए
क्या थे वो पदचिह्न ?
जो अमर हो गए !
                              .... मंजुल भारद्वाज

NYAYE KE BHANWAR MEIN BHAWARI- a play by Theatre Thinker Manjul Bhardwaj

NYAYE KE BHANWAR MEIN BHAWARI - Challenges the oppression of patriarchy & its system. रंगचिन्तक मंजुल भारद्वाज का नाटक “ न्याय के...