अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय रंगकर्मी मंजुल भारद्वाज

पुष्पगंधा एक त्रैमासिक हिंदी पत्रिका है। अगस्त-अक्टूबर 2014 का अंक यानी नवीनतम अंक मेरे पास है। विकेश निझावन इसके संपादक हैं।
यह अंक विशेष इसलिए है कि यह अंक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय रंगकर्मी मंजुल भारद्वाज की यात्रा और सृजनशीलता का दस्तावेज हमारे सामने प्रकट करता है। संयोजन और प्रस्तुति संतोष श्रीवास्तव का है। संतोष बधाई की अधिकारिणी है कि उन्होंने कम स्पेस घेरकर मंजुल भारद्वाज को समग्र तौर पर प्रस्तुत करने में सफल रही हैं।
Dhananjay Kumar

Comments

Popular posts from this blog

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 5.. आज का नाटक है “मैं औरत हूँ!”

“तत्व,व्यवहार,प्रमाण और सत्व” की चतुर्भुज को जो साधता है वो है...क्रिएटर” – मंजुल भारद्वाज (रंग चिन्तक )

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 3.. आज का नाटक है “द्वंद्व”