“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” कार्यशाला

एक्सपेरिमेंटल थिएटर फाउंडेशन द्वारा आयोजित 10 से 14 सितम्बर, 2014 को संपन्न थिएटर ऑफ़ रेलेवंसकार्यशाला में सहभागी कलकारों ने  रंग दृष्टी ,रंग उद्देश्य , अभिनेता /त्री ,निर्देशक , रचनात्मक बदलाव और एक सकारात्मक व्यक्तितत्व के विभिन्न आयामों को अनुभव और अन्वेषण की प्रक्रिया से आत्मसात किया  . इस पांच दिवसीय आवासीय रंग कार्यशाला को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय रंगकर्मी मंजुल भारद्वाज ने उत्प्रेरित किया .– Photo by Umesh Shantram Pawar




Comments

Popular posts from this blog

“तत्व,व्यवहार,प्रमाण और सत्व” की चतुर्भुज को जो साधता है वो है...क्रिएटर” – मंजुल भारद्वाज (रंग चिन्तक )

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 5.. आज का नाटक है “मैं औरत हूँ!”