जीवन के अंदर झाँकने का झरोखा है थिएटर ऑफ रेलेवेंस



रंगकर्म की यह खोज उस ऊँचाई पर पहुँचने के लिए दृढ़संकल्प नजर आती है, जहाँ सांस्कृतिक धरोहर का रूप होगा रंगकर्म। जहाँ संवाद संवाद नहीं रह जाएँगे सिम्फनी बन जाएँगे और दर्शक जीने लगेगा नाट्य मंच, नाट्य अभिनय। मंजुल का यह ट्रीटमेंट मानो सदी का मुकाम बन गया है। हालाँकि वे हर दृष्टि से यह बताना चाहते हैं कि थिएटर ऑफ रेलेवेंसके अनुसार थिएटर क्या है?’ ...


http://srijangatha.com/%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%AF%E0%A4%A8-3Oct-2012

Comments

Popular posts from this blog

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 5.. आज का नाटक है “मैं औरत हूँ!”

“तत्व,व्यवहार,प्रमाण और सत्व” की चतुर्भुज को जो साधता है वो है...क्रिएटर” – मंजुल भारद्वाज (रंग चिन्तक )

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 3.. आज का नाटक है “द्वंद्व”