Script of the play "Garbh" by Manjul Bhardwaj

Garbh
The play delves with conflict of Manhood and the humanity. The play deals with the challenges of living life as a human. The Plot subtly delves into human psychology and questions the existence of invisible cocoon which is woven around each one of us by the nationhood, racism, religion, caste, system!




















Comments

Popular posts from this blog

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 5.. आज का नाटक है “मैं औरत हूँ!”

“तत्व,व्यवहार,प्रमाण और सत्व” की चतुर्भुज को जो साधता है वो है...क्रिएटर” – मंजुल भारद्वाज (रंग चिन्तक )

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 3.. आज का नाटक है “द्वंद्व”